Start A Blog

Major Changes in dofollow, nofollow,sponsored, UGC Link Tags in Hindi 2019-2020

हिंदी में डूफॉलो, नोफॉलो, प्रायोजित, यूजीसी लिंक टैग में प्रमुख परिवर्तन 2018-2021 गूगल हर दिन अपने फीचर बदलता रहता है इसी दिशा में हमने गूगल नो फॉलो लिंक से जुड़े कुछ बदलाव किए हैं, आज हम इस लेख में इसी विषय पर बात करेंगे। गूगल ने 10 सितंबर 2019 को यह संदेश दिया कि गूगल … Continue reading Major Changes in dofollow, nofollow,sponsored, UGC Link Tags in Hindi 2019-2020

हिंदी में डूफॉलो, नोफॉलो, प्रायोजित, यूजीसी लिंक टैग में प्रमुख परिवर्तन 2018-2021

गूगल हर दिन अपने फीचर बदलता रहता है इसी दिशा में हमने गूगल नो फॉलो लिंक से जुड़े कुछ बदलाव किए हैं, आज हम इस लेख में इसी विषय पर बात करेंगे। गूगल ने 10 सितंबर 2019 को यह संदेश दिया कि गूगल का नो फॉलो लिंक अब अलग तरह से काम करेगा, साथ ही गूगल ने नो फॉलो लिंक वाले दो नए लिंक लॉन्च किए हैं जो प्रायोजित लिंक और यूजीसी लिंक हैं।

अब हम जानते हैं कि नो फॉलो लिंक, प्रायोजित लिंक और यूजीसी लिंक क्या हैं, वे कैसे काम करते हैं –

आमतौर पर दो लिंक होते थे dofollow और nofollow

यदि किसी भी प्रकार की साइट में हाइपरलिंक है, तो लिंक या तो उसी साइट का दूसरा पेज है, या किसी अन्य डोमेन का लिंक है। यह साइट मालिक के हाथ में होती है कि वह किस लिंक को जूस पास पर अपने पोस्ट को देना चाहता है और जिसे वह अपनी साइट का जूस पास चालू नहीं करना चाहता है, वह उसे dofollow लिंक टैग में डालता है और वह कौन सा पेज करता है जूस पास नहीं करना चाहता, वह नो फॉलो लिंक में डाल देता है।

आज के समय में dofollow उसी तरह काम कर रहा है जिस तरह से यूजर जो अपने पेज को बेनिफिट देना चाहता है वो अच्छी तरह से जानता है लेकिन जब दूसरी साइट का लिंक उनकी साइट में होता है तो उसके अलग-अलग उद्देश्य होते हैं लेकिन अगर हम सभी को इसमें डाल दें dofollow और nofollow, उद्देश्य स्पष्ट नहीं है, इसलिए Google ने दो नए टैग पेश किए।

पहले नो फॉलो लिंक का इस्तेमाल कैसे किया जाता था?

जब एक वेबसाइट के मालिक ने नो फॉलो लिंक का इस्तेमाल किया, तो पैड प्रायोजित लिंक, या यूजीसी यानी यूजर-जनरेटेड कंटेंट या अविश्वसनीय लिंक होने पर किसी फॉलो लिंक का इस्तेमाल नहीं किया गया। और पहले किसी भी फॉलो लिंक को न तो क्रॉल किया जाता था और न ही इंडेक्स किया जाता था। साथ ही रैंकिंग के लिए किसी फॉलो लिंक का भी इस्तेमाल नहीं किया गया।

अब दो नए लिंक शुरू किए गए हैं –

लेकिन मौजूदा हालात में Google ने नो फॉलो लिंक वाले दो नए लिंक लॉन्च किए हैं, जिनमें से एक है

प्रायोजित लिंक

एक प्रायोजित लिंक का उपयोग तब किया जाता है जब लिंक पैड या प्रायोजित लिंक में होता है, यानी फ्रंट पार्टी ने भुगतान किया है और अपना बैक लिंक बनाया है। ऐसे लिंक में साइट का मालिक पैसे लेकर जूस पास को अपने पेज पर भेजने के लिए तैयार हो जाता है, इसलिए अब यह प्रायोजित लिंक टैग Google को स्पष्ट रूप से बताएगा कि यह एक पैड लिंक है।

यूजीसी लिंक

यह वह लिंक है जिसमें उपयोगकर्ता द्वारा निर्मित सामग्री आती है। इसे यूजीसी लिंक टैग के माध्यम से दिखाया जाएगा। ये वो लिंक होंगे जो यूजर द्वारा लिखे गए हैं, जैसे कि कमेंट सेक्शन में यूजर कमेंट डालना, या यूजर के सवाल का जवाब देकर कुरा जैसी साइट पर लिंक डालना। आमतौर पर ये लिंक नो फॉलो टैग के तहत हुआ करते थे लेकिन अब गूगल ने इनके लिए यूजीसी टैग शुरू कर दिया है।

नो फॉलो लिंक

इसके अलावा, सभी लिंक जो भरोसेमंद नहीं हैं, उन्हें नो फॉलो लिंक टैग के साथ जोड़ा जाएगा, जिस पर साइट का मालिक उनके लिंक जूस पर नहीं जा रहा है। यह संदेश स्पष्ट रूप से समझ में आ जाएगा। इस तरह पुराना नो फॉलो लिंक पहले की तरह ही काम करेगा।

वर्तमान समय में किए गए परिवर्तनों में यह है कि इन लिंक्स का उपयोग अभी भी क्रॉलिंग या इंडेक्सिंग के लिए नहीं किया जाएगा, लेकिन इनका उपयोग रैंकिंग के लिए किया जा सकता है।

भविष्य में बदलाव

Google ने यह संदेश भी दिया है कि फिलहाल इन लिंक्स का इस्तेमाल न तो क्रॉलिंग के लिए किया जा रहा है और न ही इंडेक्सिंग के लिए लेकिन अगले साल 1 मार्च 2020 के बाद इन लिंक्स का इस्तेमाल क्रॉलिंग या इंडेक्सिंग के लिए भी किया जा सकता है. .

इन लिंक्स के लिए कोड क्या होगा?

  1. do follow link -< href –“site url”>trusted site</a>
  2. Paid/ Sponsored Link-< href –“site url” rel=”sponsored”>bitcoin </a>
  3. UGC Link-< href –“site url” rel=”ugc”>my site </a>
  4. Nofollow Link -< href –“site url” rel=”nofollow”>shady </a>

Google ने अपने साइट के मालिक को अपने उद्देश्य को स्पष्ट रूप से समझाने का अवसर देने के लिए दो नए टैग लॉन्च किए हैं। इन नए टैक्सों को लागू करने से गूगल यह समझ पाएगा कि कौन सी पोस्ट स्पॉन्सर्ड लिंक है और किस पोस्ट में यूजीसी टाइप लिंक है। इस तरह Google को इंडेक्सिंग, क्रॉलिंग और रैंकिंग में सुधार करने का मौका मिलेगा।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may also like

Read More