SEO

Internal Linking क्या है और यह SEO में क्यों जरुरी है?

ब्लॉग के लिए इंटरनल लिंकिंग? क्या आप जानते हैं कि इंटरनल लिंकिंग न करने से आपके ब्लॉग को कितना नुकसान हो सकता है? यदि नहीं, तो इसके लिए आपको सबसे पहले यह जानना होगा कि Internal Linking क्या है और SEO में यह क्यों महत्वपूर्ण है? इंटरनल लिंकिंग का इस्तेमाल पूरी दुनिया में ब्लॉगर्स द्वारा … Continue reading Internal Linking क्या है और यह SEO में क्यों जरुरी है?

ब्लॉग के लिए इंटरनल लिंकिंग? क्या आप जानते हैं कि इंटरनल लिंकिंग न करने से आपके ब्लॉग को कितना नुकसान हो सकता है? यदि नहीं, तो इसके लिए आपको सबसे पहले यह जानना होगा कि Internal Linking क्या है और SEO में यह क्यों महत्वपूर्ण है?

इंटरनल लिंकिंग का इस्तेमाल पूरी दुनिया में ब्लॉगर्स द्वारा 99% इस्तेमाल किया जाता है। क्या यह आश्चर्य की बात है! इंटरनल लिंकिंग का ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है क्योंकि यह SEO के लिए बहुत जरूरी है। बाकी 1% ब्लॉगर वे हैं जिन्होंने एक नया ब्लॉग शुरू किया है और उन्हें इंटरनल लिंकिंग के बारे में जानकारी नहीं है।

जो ब्लॉगर पहले से ही ब्लॉगिंग कर रहे हैं, वे इंटरनल लिंकिंग के बारे में अच्छी तरह जानते होंगे, लेकिन जिन्होंने अभी-अभी ब्लॉग लिखना शुरू किया है, तो मैं इंटरनल लिंकिंग के बारे में बता दूं कि इंटरनल लिंकिंग ऑन पेज एसईओ इसके अंतर्गत आता है, इसके जरिए आप अपने ब्लॉग को रैंक कर सकते हैं गूगल के सर्च इंजन में टॉप पर।

क्या आप भी चाहते हैं कि आपका ब्लॉग Google के Search Engine Result Page (SERPs) में पहले पेज पर रैंक करे? अगर हाँ तो मैं आपको इस लेख में इंटरनल लिंकिंग के बारे में पूरी जानकारी दूंगा जिससे आप भी अपना ब्लॉग SERPs में बना सकते हैं। प्रथम पृष्ठ पर स्थान दिया जा सकता है। यह लेख आपके लिए बहुत उपयोगी होने वाला है, इसलिए इसके एक बिंदु को भी न चूकें। तो चलिए शुरू करते हैं कि इंटरनल लिंकिंग क्या है? (इंटरनल लिंकिंग क्या होता है)

इंटरनल लिंकिंग क्या है? (Internal Linking In Hindi क्या है)

विषयसूची

इंटरनल लिंकिंग क्या है? (Internal Linking In Hindi क्या है)

SEO में इंटरनल लिंकिंग क्यों जरूरी है?
इंटरनल लिंकिंग कैसे करें: 8 आसान तरीके
1. पाठक की सुविधा के अनुसार इंटरनल लिंकिंग करें।
2. अपनी वेबसाइट के स्ट्रक्चर के अनुसार इंटरनल लिंकिंग
3. वेबसाइट के कुछ पेजों को अधिक इंटरनल लिंकिंग दें
4. एक ही टॉपिक पर लिखी पोस्ट को लिंक करें।
Hostinger Hosting और Free SSL खरीदें
अतिरिक्त छूट कोड: – SEOPAVAN
5. वेबसाइट के पृष्ठों को एक श्रेणीबद्ध तरीके से आंतरिक लिंक करें।
6. एक ही पोस्ट या पेज पर और लिंक न जोड़ें।
7. आंतरिक टूटी कड़ियों को हटा दें
8. कीवर्ड एंकर टेक्स्ट में आंतरिक लिंक जोड़ें
इंटरनल लिंकिंग के फायदे
आंतरिक लिंकिंग या बाहरी लिंकिंग के बीच अंतर
निष्कर्ष: इंटरनल लिंकिंग क्या है?
अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न: इंटरनल लिंकिंग क्या है?
Q1. HTML में इंटरनल लिंकिंग कैसे जोड़ें?
प्रश्न २. आप अपनी वेबसाइट में आंतरिक लिंकिंग के अवसर कैसे खोज सकते हैं?
Q3. नहीं, फॉलो इंटरनल लिंकिंग कैसे जोड़ें?
इंटरनल लिंकिंग अपनी वेबसाइट के ब्लॉग पोस्ट में आर्टिकल लिखते समय उस टॉपिक से रिलेटेड टॉपिक का लिंक अपने दूसरे ब्लॉग पोस्ट को दें तो उसे इंटरनल लिंकिंग कहते हैं। इंटरनल लिंकिंग को हाइपरलिंकिंग भी कहा जाता है।

दोस्तों क्या आप जानते हैं कि Google का Search Engine आपकी वेबसाइट तक कैसे पहुंचता है? नहीं, मैं आपको बताता हूं कि अगर आपकी वेबसाइट के पेज या पोस्ट आपकी खुद की वेबसाइट या किसी अन्य वेबसाइट के ब्लॉग से जुड़े हैं, तो Google को इसे ढूंढना आसान है।

आंतरिक लिंक का उपयोग मुख्य रूप से वेबसाइट की रणनीति बनाने के लिए किया जाता है। इससे आपकी वेबसाइट का एक ब्लॉग आपके दूसरे ब्लॉग से जुड़ा रहता है और आपके विज़िटर आपके आंतरिक लिंक के माध्यम से वेबसाइट के विभिन्न पोस्ट का उपयोग करते हैं, जिससे आपके विज़िटर आपके ब्लॉग पर अधिक से अधिक समय तक बने रहते हैं।

यह भी ध्यान देने योग्य बात है कि यदि आपने अपनी वेबसाइट का On Page SEO अच्छी तरह से किया है तो आपकी वेबसाइट जल्द ही Google के सर्च इंजन में रैंकिंग करना शुरू कर देगी।

SEO में इंटरनल लिंकिंग क्यों जरूरी है?

जैसे, अब आप जान गए हैं कि इंटरनल लिंकिंग क्या है? क्या आपने कभी सोचा है कि SEO में इंटरनल लिंकिंग क्यों जरूरी है?

दोस्तों आपके साथ ऐसा क्या होता है कि आपके ब्लॉग से विजिटर जल्दी चले जाते हैं? और क्या आप चाहते हैं कि ऐसा न हो ताकि आपके विजिटर आपके ब्लॉग पर ज्यादा से ज्यादा समय तक बने रहें? अगर हां, तो उसके लिए आपको सबसे पहले यह जानना होगा कि Google का सर्च इंजन कैसे काम करता है?

Google किसी भी नई सामग्री को केवल आंतरिक लिंकिंग के माध्यम से खोजता है। जैसे अगर आपने अपनी वेबसाइट पर कोई नया ब्लॉग पोस्ट डाला और उसमें कोई इंटरनल लिंकिंग नहीं दी तो आपकी यह पोस्ट किसी काम की नहीं है क्योंकि इसमें एक भी इंटरनल लिंकिंग नहीं है। Google का Crawler आपकी वेबसाइट पर खोज करने में असमर्थ है।

Google के अनुसार, यदि आपके नए वेबपेज में आपके किसी विषय से मेल खाने वाले आपके अन्य वेबपेज का लिंक है, तो Google का क्रॉलर आपके पुराने वेबपेज के माध्यम से आपके नए वेबपेज पर आता है जो पहले से ही Google सर्च इंजन में सूचीबद्ध होता। क्या इंटरनल लिंकिंग आपके वेबपेज और गूगल के सर्च इंजन के बीच की कड़ी है।

इंटरनल लिंकिंग कैसे करें: 8 आसान तरीके

क्या आपने पहले इंटरनल लिंकिंग की है? क्या आप जानते हैं कि इंटरनल लिंकिंग कैसे करते हैं? और इंटरनल लिंकिंग क्या है? अगर नहीं तो यहां मैं आपको 8 ऐसे तरीके बताऊंगा जिससे आप आसानी से इंटरनल लिंकिंग कर पाएंगे।

1. पाठक की सुविधा के अनुसार इंटरनल लिंकिंग करें।

अपनी सामग्री हमेशा पाठक की रुचि के अनुसार बनाएं। विश्लेषण करें कि आपके पाठकों को आपका लेख पसंद है या नहीं, उन्हें आपके लेख में कौन सा विषय अधिक दिलचस्प लगता है। यदि आप Readers के अनुभव का अच्छी तरह से विश्लेषण करते हैं तो आपको इसका अच्छा लाभ मिल सकता है।

अब आप सोच रहे होंगे कि इससे आपको क्या फायदा होगा? मैं आपको बताता हूं कि जब आप कोई नया ब्लॉग पोस्ट लिख रहे होते हैं तो आप उस टॉपिक को पूरा करने के बजाय अपने ब्लॉग पोस्ट का लिंक दे सकते हैं, ताकि आपके पाठक आपके ब्लॉग के अधिक से अधिक पेजों को आपकी इंटरनल लिंकिंग के जरिए एक्सेस कर सकें। पढ़ेंगे ताकि वे आपके ब्लॉग पर अधिक समय बिता सकें।

2. अपनी वेबसाइट के स्ट्रक्चर के अनुसार इंटरनल लिंकिंग

जब आप अपनी वेबसाइट का Off Page SEO करते हैं तो इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि यह एक स्ट्रक्चर के अनुसार हो, तभी Google के Crawlers आपकी वेबसाइट के वेब पेजों को ज्यादा सर्च कर पाएंगे। यदि आपने अपनी वेबसाइट का ब्लॉग पोस्ट लिखने का फैसला किया है, तो उसे एक संरचना के अनुसार पोस्ट करें।

जैसे होमपेज वेबसाइट के स्ट्रक्चर में सबसे पहले आता है, उसके बाद महत्वपूर्ण पेज (बादाम विजेट, ब्लू विजेट और सियान विजेट), उसके बाद आपका पोस्ट आता है।

3. वेबसाइट के कुछ पेजों को अधिक इंटरनल लिंकिंग दें

क्या आपके पास यह विचार है कि अधिकांश ब्लॉगर अपनी वेबसाइट के कुछ पृष्ठों को अधिक आंतरिक लिंकिंग देते हैं? ऐसा क्यों? यदि आप नहीं जानते हैं तो मैं आपको बता दूं कि वे ऐसा इसलिए करते हैं क्योंकि वेबसाइट के कुछ महत्वपूर्ण पेज जैसे होम पेज एसईओ के लिए यह बहुत महत्वपूर्ण है, अगर आप अपने होमपेज या अन्य पेजों में अधिक आंतरिक लिंकिंग देते हैं तो यह आपके पाठकों की मदद करेगा और Google के क्रॉलर। आपके आंतरिक लिंक के माध्यम से आपकी वेबसाइट के विभिन्न वेब

Internal LinkingExternal Linking
जब किसी एक Website के एक Page में उसी Website के दूसरे Pages का Link देते हैं तो उसे Internal Linking कहते है।जब दूसरी Website के Page का Link अपनी Website के Page में दिया जाता है तो उसे External Linking कहते हैं।
Internal Linking करने से अपनी Website की Ranking Search Engine में बढ़ती है।External Linking करने से दूसरी Website की Ranking Search Engine में बढ़ती है।
Internal Linking Totally Free होती है।External Linking Paid और Free दोनों तरह की होती है।
इन्हे Inbound Linking भी कहा जाता है।इन्हे Outbound Linking भी कहा जाता है।
Internal Linking एक Domain से Related होती हैं।External Linking दूसरे Domain वाली Websites से Related होती हैं।

निष्कर्ष: इंटरनल लिंकिंग क्या है?
जब आप अपने ब्लॉग पोस्ट में कोई टॉपिक लिखते हैं और उस टॉपिक की जगह आप उसी टॉपिक को पूरा करके अपने दूसरे ब्लॉग पोस्ट का लिंक देते हैं तो उसे इंटरनल लिंकिंग कहते हैं।

इस लेख में आपने सीखा कि SEO में इंटरनल लिंकिंग क्यों और क्यों जरूरी है? और मैंने आपको 8 ऐसे आसान तरीके बताए हैं जिससे आप इंटरनल लिंकिंग आसानी से कर पाएंगे जैसे रीडर की सुविधा के अनुसार इंटरनल लिंकिंग, अपनी वेबसाइट के स्ट्रक्चर के अनुसार इंटरनल लिंकिंग करें, वेबसाइट के कुछ पेजों को ज्यादा इंटरनल लिंकिंग दें , वही विषय पर लिखे गए पोस्ट को लिंक करें, वेबसाइट के पेजों को एक श्रेणीबद्ध तरीके से इंटरलिंक करें, एक ही पोस्ट या पेज पर अधिक लिंक न जोड़ें, आंतरिक ब्रोकन लिंक को हटा दें, कीवर्ड एंकर टेक्स्ट में आंतरिक लिंक जोड़ें। और मैंने आपको बताया कि इंटरनल लिंकिंग के क्या फायदे हैं?

अंत में इंटरनल लिंकिंग या एक्सटर्नल लिंकिंग में क्या अंतर है? इस लेख में मैंने आपको इंटरनल लिंकिंग के बारे में पूरी जानकारी देने की कोशिश की है।

 

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न: इंटरनल लिंकिंग क्या है?
बहुत से Bloggers में अभी भी Internal Linking को लेकर काफी Confusion है। मैं यहां इंटरनल लिंकिंग से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण सवालों के जवाब देने की पूरी कोशिश करूंगा।

 

Q1. HTML में इंटरनल लिंकिंग कैसे जोड़ें?
उत्तर। HTML में इंटरनल लिंकिंग जोड़ने के लिए सबसे पहले आपको यह तय करना होगा कि आपको अपनी वेबसाइट के किस पेज से पैराग्राफ लिंक करना है, उसके लिए आप पिछले पैराग्राफ की आईडी से URL को बदल दें जैसे

<a href = “# Link1 जजिंग> माई लिंक </a>

यहाँ href के स्थान पर आपके दूसरे वेबपेज का नाम है जहाँ My Link पर क्लिक करने से विज़िटर लिंक पर पहुँच जाते हैं, इसमें # का अर्थ है कि आपने कितने बजे लिंक बनाया।

<a name = “Link1 वाक्य> मेरा लिंक यहाँ से शुरू होता है </a>

इस तरह कोई भी विजिटर आपके लिंक पर क्लिक करके आप तक पहुंच जाएगा।

प्रश्न २. आप अपनी वेबसाइट में आंतरिक लिंकिंग के अवसर कैसे खोज सकते हैं?
उत्तर। कई ब्लॉगर (विशेष रूप से नए ब्लॉगर) यह नहीं जानते हैं कि अपनी वेबसाइटों में आंतरिक लिंकिंग के अवसरों को ठीक से कैसे खोजा जाए। आप 2 तरीकों से आंतरिक लिंकिंग के अवसर पा सकते हैं: पहला है मैन्युअल रूप से और दूसरा है टूल्स के माध्यम से। मैन्युअल रूप से आप Ctrl + F द्वारा एक-एक करके पेज में जाकर सर्च कर सकते हैं और टूल्स में आप किसी भी प्लगइन्स को इंस्टाल करके सर्च कर सकते हैं।

Q3. नहीं, फॉलो इंटरनल लिंकिंग कैसे जोड़ें?
उत्तर। कोई अनुवर्ती आंतरिक लिंकिंग प्लगइन्स के माध्यम से नहीं जोड़ा जा सकता है। WordPress.org में नो फॉलो इंटरनल लिंकिंग जोड़ने के लिए कई प्लगइन्स उपलब्ध हैं। WordPress.org में UitimateNofollow Plugin सबसे अच्छा है। प्लगइन को सक्रिय करें और टेक्स्ट में लिंक जोड़ें, यह आपको एक पेंसिल आइकन दिखाएगा, उस पर क्लिक करें और गियर आइकन खोलने के बाद, एक पॉप-अप बॉक्स खुल जाएगा। उस बॉक्स में आपको एक चेकबॉक्स -rel = nofollow दिखाई देगा, फिर आपको Add लिंक पर क्लिक करना है। जैसे ही आप Add Link पर क्लिक करेंगे आपका Dofollow लिंक Nofollow लिंक में कन्वर्ट हो जाएगा।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may also like

Read More