SEO

एसईओ बैकलिंक्स क्या है एवं इसके फायदे |What are Backlinks in SEO and its Advantages in Hindi

SEO में बैकलिंक्स क्या हैं और इसके क्या फायदे हैं (SEO में बैकलिंक्स क्या हैं और बैकलिंक्स के फायदे क्या हैं) विषयसूची SEO में बैकलिंक्स क्या हैं और इसके क्या फायदे हैं (SEO में बैकलिंक्स क्या हैं और बैकलिंक्स के फायदे क्या हैं)बैकलिंक्स क्या हैं?लिंक जूस –नो-फॉलो टैग [नो-फॉलो टैग] –टैग का पालन करेंलिंक रूट … Continue reading एसईओ बैकलिंक्स क्या है एवं इसके फायदे |What are Backlinks in SEO and its Advantages in Hindi

SEO में बैकलिंक्स क्या हैं और इसके क्या फायदे हैं (SEO में बैकलिंक्स क्या हैं और बैकलिंक्स के फायदे क्या हैं)

विषयसूची

SEO में बैकलिंक्स क्या हैं और इसके क्या फायदे हैं (SEO में बैकलिंक्स क्या हैं और बैकलिंक्स के फायदे क्या हैं)
बैकलिंक्स क्या हैं?
लिंक जूस –
नो-फॉलो टैग [नो-फॉलो टैग] –
टैग का पालन करें
लिंक रूट डोमेन लिंकिंग रूट डोमेन:
निम्न-गुणवत्ता वाले लिंक:
एंकर टेक्स्ट:
साइट पर बैकलिंक्स के लाभ:
ब्रांड नाम बनाने में मदद करता है:-
प्रचार :-
बैकलिंक्स बनाने के नियम क्या हैं?
एक अच्छा ब्लॉग लिखें [भयानक लेख लिखें]:
अतिथि ब्लॉगिंग शुरू करें: –
ऐसा कैसे होता है, इसके लिए नीचे देखें-
इसके अलावा और भी कुछ तरीके हैं जिनसे आप अच्छे बैकलिंक्स प्राप्त कर सकते हैं जैसे कि –
बैकलिंक्स [बैकलिंक] सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन में एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं, जो आपकी साइट की रैंकिंग में सुधार करने के लिए आवश्यक हैं। कई ब्लॉगर्स के लिए बैकलिंक एक अनजान शब्द है, इसलिए इस आर्टिकल में बताया जा रहा है कि बैकलिंक्स [बैकलिंक] क्या होते हैं? बैकलिंक्स क्यों बनाए जाते हैं? इसके फायदे और नुकसान क्या हैं और बैकलिंक्स कैसे बनते हैं?

“बैकलिंक” सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (एसईओ) की दुनिया में सबसे अधिक इस्तेमाल किए जाने वाले शब्दों में से एक है। लेकिन बहुत कम लोगों को इसकी पूरी जानकारी मिलती है।

बैकलिंक्स क्या हैं?


जब कोई वेब पेज दूसरे पेज से लिंक होता है, तो उसे एक पेज के लिए बैकलिंक और दूसरे पेज के लिए आउटबाउंड लिंक कहा जाता है। एक समय में SEO में Backlink की बहुत महत्वपूर्ण भूमिका होती थी, लेकिन अब इसमें बहुत से पैरामीटर जुड़ गए हैं, जिससे Backlink बनाने से प्रतिशत लाभ इतना आसान नहीं है, लेकिन ऐसा नहीं है कि Backlink बनाने से कोई फायदा नहीं होता है। अगर हम सभी नियमों को ध्यान में रखते हुए बैकलिंक बनाते हैं तो हमें अपनी साइट की रैंकिंग में फायदा मिलता है।

बैकलिंक को समझने या समझाने के लिए उससे जुड़े सभी बिंदुओं को समझना जरूरी है। आउटबाउंड लिंक में अधिकांश संबंधित बिंदु भी महत्वपूर्ण हैं। वे बिंदु इस प्रकार हैं-

लिंक जूस –
जब कोई वेब पेज दूसरे वेब पेज से जुड़ता है, तो वह अपने लिंक को दूसरे वेब पेज पर भेज देता है। यह ब्लॉगर पर निर्भर करता है कि वह अपना लिंक जूस दूसरे ब्लॉग को देना चाहता है या नहीं। यदि वे देना नहीं चाहते हैं, तो वे नो-फॉलो टैग का उपयोग कर सकते हैं, लेकिन यदि वे इस लिंक जूस को पास करते हैं, तो दूसरे वेब पेज की रैंकिंग बढ़ जाती है और डोमेन प्राधिकरण में भी सुधार होता है।

नो-फॉलो टैग [नो-फॉलो टैग] –
यदि कोई वेब पेज अपने लिंक जूस को पास नहीं करना चाहता है, तो वे इस टैग का उपयोग कर सकते हैं, लेकिन ऐसा करने से वे वेब पेज Google की नजर में योगदान नहीं दे रहे हैं ताकि Google उस पेज की रैंकिंग में बदलाव न करे। लेकिन जब हम किसी भी अविश्वसनीय साइट से जुड़ना नहीं चाहते हैं और अपने लिंक जूस को पास नहीं करना चाहते हैं तो नो-फॉलो टैग का उपयोग करना सही है।

टैग का पालन करें
यह सभी साइटों में सक्रिय रहता है, यदि किसी लाइन पर हाइपर लिंक है, तो डू-फॉलो सक्रिय हो जाएगा और इस तरह मुख्य पृष्ठ का लिंक दूसरे पृष्ठ पर भेज दिया जाएगा। यह प्रक्रिया इंटरनल लिंक्स या इनबाउंड लिंक्स में भी होती है।

लिंक रूट डोमेन लिंकिंग रूट डोमेन:
इस टर्म का मतलब है कि कोई भी पेज एक ही डोमेन नेम बैकलिंक को सिर्फ एक बार ही अप्रूव कर सकता है, जिससे अगर एक साइट के कई वेब पेज दूसरी साइट के कई पेजों से लिंक हो जाएं तो उसे वही बैकलिंक मिल जाएगा। . इसे ही हम Linking Root Domains कहते हैं।

निम्न-गुणवत्ता वाले लिंक:
अगर ब्लॉगर साइट को चेक किए बिना ही साइट को अप्रूव कर देता है और उस साइट की क्वालिटी अच्छी नहीं है, उसकी सामग्री पूर्ण नहीं है या सही नहीं है, या यह एक पोर्न साइट है, तो इसका आपके ब्लॉग पर नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। इसलिए बैकलिंक बनाते और अप्रूव करते समय इस बात का ध्यान रखें कि जिस लिंक पर आप अपने ब्लॉग के लिए बैकलिंक बना रहे हैं या किसी अन्य साइट को बैकलिंक दे रहे हैं वह एक वेरिफाइड साइट है, यह किसी भी तरह से स्पैम नहीं होनी चाहिए। नहीं तो आपका ब्लॉग खराब हो जाएगा और उसकी रैंकिंग खराब हो सकती है।

एंकर टेक्स्ट:
जिन शब्दों या कीवर्ड के ऊपर हम हाइपर लिंक बनाते हैं, उन्हें एंकर टेक्स्ट कहते हैं। एंकर टेक्स्ट एक बहुत ही महत्वपूर्ण शब्द है। एंकर टेक्स्ट के जरिए हम अपने कीवर्ड्स को प्रमोट कर सकते हैं यानी हम अपने ब्लॉग के कीवर्ड्स की रैंकिंग गूगल की नजर में बढ़ा सकते हैं।

बैकलिंक्स का SEO में महत्वपूर्ण स्थान है। इससे साइट की रैंकिंग काफी बढ़ जाती है, लेकिन अतीत में Google के मानकों में कई बदलाव हुए हैं, जिसके कारण बैकलिंक से संबंधित कई नियमों में भी कई बदलाव हुए हैं, जहां बैकलिंक का सकारात्मक प्रभाव पड़ता है। इसका असर साइट पर भी देखा जा सकता है। ये सारे बदलाव गूगल के पेंगुइन एल्गोरिथम के लागू होने के बाद देखने को मिले। मौजूदा नियमों के मुताबिक बैकलिंक को हमेशा Niche साइट पर ही बनाना ही सही तरीका है। यदि आपकी साइट लेडीज फैशन से संबंधित है, तो आप लेडीज ब्यूटी टिप्स से संबंधित ब्लॉग पर अपना बैकलिंक बना सकते हैं, लेकिन यदि आप बैंक फैशन ब्लॉग से संबंधित ब्लॉग पर हैं, तो यदि हम बैकलिंक बनाते हैं तो एक नकारात्मक प्रभाव पैदा करते हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

You may also like

Read More